3 साल चली एडॉप्शन प्रोसेस तब मंदिरा के घर आ पाई बेटी तारा, बोलीं-मेरे बेटे को अब अपनी बहन से जलन होने लगी है

By | 3rd November 2020


4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

मंदिरा बेदी ने हाल ही में खुलासा किया था कि उन्होंने एक चार साल की बेटी को गोद लिया है। बेटी का नाम उन्होंने तारा बेदी कौशल रखा है। मंदिरा ने बेटी के साथ एक नई तस्वीर शेयर की है। इस ब्लैक एंड वाइट फोटो में मां-बेटी की जोड़ी मुस्कुराती नजर आ रही है। इंस्टाग्राम पर इस फोटो को शेयर करते हुए मंदिरा ने लिखा, मेरा ताला और चाबी भी!#LockStar”

टीकमगढ़ की है बेटी

इसके साथ ही एक इंटरव्यू में मंदिरा ने तारा को गोद लेने की प्रक्रिया के बारे में बात की है। मिड-डे से बातचीत में उन्होंने बताया, तारा टीकमगढ़, मध्य प्रदेश से है। जब मेरे पति लॉकडाउन के बीच टीकमगढ़ में मौजूद एक अनाथालय पहुंचे तो तारा उनकी गोद में आकर बैठ गई और बोली-चलो। तारा उनके साथ चलने के लिए एकदम तैयार थी। वह उस जगह को छोड़ने में बिलकुल मायूस नहीं थी और ना ही उसकी आंखों में आंसू थे। अनाथालय पहुंचने से पहले मंदिरा और उनके पति राज ने तारा की तस्वीर देखी थी और उसके साथ कई बार वीडियो कॉल पर बात की थी।

तीन साल चली गोद लेने की प्रक्रिया

मंदिरा ने कवितानुमा पोस्ट में सोशल मीडिया पर दशहरे पर लिखा था- वह हमारे पास एक आशीर्वाद की तरह आई। हमारी छोटी सी बेटी तारा। 4 साल और कुछ थोड़ी सी उम्र और उन आंखों से जो सितारों की तरह चमकती हैं। अपने वीर की बहन। उसका घर में स्वागत है, खुली बाहों और सच्चे प्यार के साथ। हम आभारी हैं। तारा बेदी कौशल, हमारे परिवार का हिस्सा बनी 28 जुलाई 2020 को।

उसे गोद लेने की प्रक्रिया उन्होंने तीन साल पहले शुरू की थी जब उनका अपना बेटा वीर 6 साल का था। अब वो 9 साल का हो गया है। मंदिरा ने कहा, तब वह बेहद उत्साहित था कि उसकी बहन आने वाली है।अब मैं श्योर नहीं हूं कि वो कैसा फील करता है। उसने अपने क्लासमेट्स से जूम कॉल पर तारा की मुलाकात करवाई है। एक दिन उसने मुझसे कहा था-जब आप तारा को गुड गर्ल कहती हैं तो मुझे जलन होती है। उसकी ये बात सुनकर मैं बेटे पर ज्यादा ध्यान दे रही हूं।



Source by [author_name]

0Shares