यादें शेष: मनोज बाजपेयी बोले-सिर्फ शूटिंग के लिए मुंबई आते थे आसिफ बसरा, मायानगरी की चकाचौंध से दूर रहने के लिए चुना था धर्मशाला

By | 13th November 2020


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

एक्टर आसिफ बसरा की मौत की खबर से बॉलीवुड में शोक की लहर है। आसिफ गुरुवार सुबह हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला के मैक्लोडगंज में एक कैफे के पास अपने घर पर मृत मिले थे। पुलिस को सुसाइड की आशंका है।

बताया जा रहा है कि उन्होंने अपने पालतू कुत्ते की रस्सी से फांसी लगाकर जान दे दी। हालांकि अभी आत्महत्या के कारणों का पता नहीं चला है। कहा जा रहा है कि वे डिप्रेशन से जूझ रहे थे।

53 साल के आसिफ की मौत की खबर सुनकर उनके साथ काम कर चुके मनोज बाजपेयी भी दुखी हैं। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “क्या? यह बहुत शॉकिंग है। लॉकडाउन से पहले उनके साथ शूटिंग की थी।” टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में भी मनोज ने आसिफ को लेकर कई सारी बातें शेयर कीं।

मुंबई की भाग-दौड़ भरी जिंदगी नहीं थी पसंद

मनोज ने कहा, ”मैं लगातार उनके साथ टच में नहीं था। मैंने उनके साथ काम जरूर किया था लेकिन हम साथ में कम ही हैंगआउट कर पाए। हमने सेट पर काफी अच्छा समय बिताया था। मुझे उनका सेंस ऑफ ह्यूमर पसंद था। वह भी थिएटर बैकग्राउंड से आते थे और सेट पर हमारी खूब बनती थी।

वह कमाल के एक्टर थे। साथ ही खुशमिजाज इंसान थे। उन्हें शांति पसंद थी इसलिए उन्होंने रहने के लिए मायानगरी की चकाचौंध को पीछे छोड़कर धर्मशाला चुना था। वह केवल शूटिंग के लिए मुंबई आते थे। हम में से बहुत कम लोग हैं जो मुंबई के बाहर बसना पसंद करते हैं। बड़े शहर अपना चार्म खो रहे हैं। यह बड़ा कदम था और मैं इस बात के लिए उनकी सराहना करता हूं कि सब चीजों के ऊपर अपनी खुशी और शांति को चुना।”

इन फिल्मों में किया था काम

आसिफ 1998 से फिल्मों में एक्टिव थे। उन्होंने ‘वो’ (`1998) ‘ब्लैक फ्राइडे’ (2004), ‘जब वी मेट’ (2007), ‘वन्स अपॉन अ टाइम इन मुंबई’ (2010), ‘कृष 3’ (2013), ‘काई पो छे’ (2013) और ‘हिचकी’ (2018) जैसी फिल्मों में काम किया था। ‘होस्टेजेस’ और ‘पाताल लोक’ जैसी हिट वेब सीरीज में भी उन्होंने अहम भूमिकाएं निभाईं थीं।



Source by [author_name]

0Shares